dil ko khush karne wali shayari

बात_किस्मत पे आ रुकी वरना !!
कोई कसर नहीं छोड़ी !!
हमने तुझे पाने के लिए !!

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

धड़कतेदिल की आवाज तुम हो !!
सब से ज्यादा कुछखास तुम हो !!
हर पल_एहसास होता है इतना !!
जेसे मेरे ‘दिल’ के पास तुम हो !!

बेवफा से दिल लगा लिया नादान थे हम !!
गलती हमसे हुई क्योंकि इंसान थे हम !!
आज जिन्हें नज़रें मिलाने में तकलीफ होती है !!
कुछ समय पहले उनकी जान थे हम !!

कहाँ तक_तलाश करोगे !!
तुम मुझ जैसा शख्स !!
जो तुम्हारा सितम भी सहे और !!
तुमसे मोहब्बत भी करे !!

जानने की “कोशिश” की थी तुमको !!
तुमने कभी मुझ पर ध्यान ना दिया !!
औरों पर तुम्हे ‘गहरा’ विश्वास था !!
जिसने अपना समझा उस पर “विश्वास” ना किया !!

हर तरफ से कटा पड़ा हूँ मैं !!
चीथड़ों में बेबस सा सिमट रखा हूँ मैं !!
क्या गुनाह किया इश्क़ करके मैंने !!
जो तुम्हारी दुनिया में मरा पड़ा हूँ मैं !!

मौत के बाद याद आ रहा है कोई !!
मिट्ठी मेरी कबर से उठा रहा है कोई !!
या खुदा दो पल की मोहल्लत और दे दे !!
उदास मेरी कबर से जा रहा है कोई !!

उसके चले जाने के बाद हम !!
महोबत नहीं करते किसी से !!
छोटी सी जिन्दगी है !!
किस किस को अजमाते रहेंगे !!

अनजाने में यूँ ही हम दिल गँवा बैठे !!
इस प्यार में कैसे धोखा खा बैठे !!
उनसे क्या गिला करें भूल तो हमारी थी !!
जो बिना दिलवालों से ही दिल लगा बैठे !!

उदास लम्हों की न कोई याद रखना !!
तूफ़ान में भी वजूद अपना संभाल रखना !!
किसी की ज़िंदगी की ख़ुशी हो तुम !!
बस यही सोच तुम अपना ख्याल रखना !!

इसे भी पढ़ें :- Suhagrat

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *