जब फागुन रंग झमकते हों तब देख बहारें होली की,
और दफ़ के शोर खड़कते हों तब देख बहारें होली की।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!
attitude shayari holi, bhojpuri holi shayari, funny shayari on holi, happy holi ki shayari, happy holi love shayari, happy holi shayari, happy holi shayari english, happy holi shayari hd, happy holi shayari image, happy holi shayari in hindi, happy holi shayari love, holi 2021 shayari in hindi, holi attitude shayari, holi dosti shayari, holi ka shayari, holi ke liye shayari, holi ke upar shayari, holi ki shayari, holi love shayari, holi love shayari in hindi, holi mubarak shayari, holi par shayari, holi pe shayari, holi pe shayari in hindi, holi per shayari, holi picture shayari, holi romantic shayari hindi, holi sad shayari, holi shayari, holi shayari 2 line, holi shayari attitude, holi shayari bengali, holi shayari bhojpuri, holi shayari for love, holi shayari hindi, holi shayari image, holi shayari images, holi shayari love, holi shayari odia, holi shayari photo, holi shayari sad, holi shayari status, Holi Special Shayari, holi special shayari in hindi, holi wala shayari, holi wali shayari, holi wishes in hindi shayari, holi wishes shayari, holi wishes shayari in hindi, romantic holi shayari, shayari happy holi
Holi Shayari Hindi
Holi Shayari Hindi

मौसम-ए-होली है दिन आए हैं रंग और राग के,
हमसे तुम कुछ मांगने आओ बहाने फाग के।

मुंह पर नकाब-ए-ज़र्द हर इक ज़ुल्फ पर गुलाल,
होली की शाम ही तो सहर है बसंत की।

मुहय्या सब है अब अस्बाब-ए-होली,
उठो यारों भरो रंगों से झोली।

बाज़ार, गली और कूचों में ग़ुल शोर मचाया होली ने,
दिल शाद किया और मोह लिया ये जौबन पाया होली ने।

फ़स्ल-ए-बहार आई है होली के रूप में,
सोलह सिंगार लाई है होली के रूप में।

कहीं पड़े न मोहब्बत की मार होली में,
अदा से प्रेम करो दिल से प्यार होली में।

अज़ कबीर-ओ-रंग-ए-केसर और गुलाल,
अब्र छाया है सफ़ेद-ओ-ज़र्द-ओ-लाल।

ले के आई है अजब मस्त अदाएँ होली,
मुल्क में आज नए रुख़ से दिखाएँ होली।

गले मुझ को लगा लो ऐ मिरे दिलदार होली में,
बुझे दिल की लगी भी तो ऐ मेरे यार होली में।

हम से नज़र मिलाइए होली का रोज़ है,
तीर-ए-नज़र चलाइए होली का रोज़ है।

कहीं अबीर की ख़ुश्बू कहीं गुलाल का रंग,
कहीं पे श से सिमटे हुए जमाल का रंग।

इसे भी पढ़े:- Facebook Shayari in Hindi

Pages: 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *